Twitter
You are hereNari

इस महिला की 'अर्थली क्रिएशन' की कोशिश से 40 कुम्हारों को मिला रोजगार

इस महिला की 'अर्थली क्रिएशन' की कोशिश से 40 कुम्हारों को मिला रोजगार
Views:- Monday, July 16, 2018-4:56 PM

घर में प्राकृति का करीब से अहसास करने के लिए हम छोटे-छोटे पौधे लगाते हैं। घर के आंगन में लगे ये पौधे वातावरण को भी शुद्ध रखते हैं। ये प्लांट तब और भी ज्यादा अटरैक्टिव लगते हैं जब गमले खूबसूरत हो। किसी चीज में क्रिटीविटी दिखाने की कल्पना सिर्फ एक कलाकार के दिमाग में ही आ सकती है। आज हम जिसके बारे में बात कर रहे हैं उनका नाम है हरप्रीत आहलूवालिया, जिन्होंने टेराकोटा पॉटरी लाइन 'अर्थली क्रिएशंस' के जरिए अपना नाम कमाया।  


हरप्रीत आहलूवालिया बिजनेस मैनेजमेंट में ग्रेजुएट हैं, जिसमें उन्होने मार्केटिंग/फाइनेंस में मेजर किया है। इसके साथ ही उन्होने वह यूनिवर्सिटी टॉपर और इकोनॉमिक्स में गोल्ड मेडलिस्ट पोस्ट ग्रेजुएट भी हैं। अपने शौंक को पूरा करने के लिए हरप्रीत ने गार्डनिंग एंड एनवायरमेंटल स्पेस में एक्सपर्टीज हासिल है, जिससे टेराकोटा गार्डन एक्सेसरीज और डेकोरेशंस को वे नया रूप दे रही हैं।


PunjabKesari

हरप्रीत की 'अर्थली क्रिएशंस' को शुरु किए लगभग दस साल का समय हो चुका है। इस काम के पीछे हरप्रीत की कुुछ खास लक्ष्य था। गमले के रूप में वह जानवर या पौधे लगाकर उन्हें संरक्षित करने का संदेश देती हैं। इस तरह वह कोशिश कर रही हैं प्राकृति को सुंदर और स्वस्थ बनाए रखने की। उनकेे बनाए मास्टर पीस का कोई जवाब नहीं है, इस काम में मदद के लिए उन्होने अपने साथ 40 कुम्हारों को रखा। जिससे उन्हें भी रोजगार मिलना शुरु हो गया। धीरे-धीर लोग उनके इंटीरियर को पसंद करने लगे। 

 

उनकी इस कलैक्शन में हैंगिंग्स, डैंगलर्स, वॉटर बॉडीज और पक्षी और जानवर रूपी गमले डिजाइन किए हैं। बच्चे उनकी इस खूबसूरत क्रिएशन को देखकर खुश हो जाते हैं। यह घर के हर कोने को ताजगी का एहसास देते हैं।  'अर्थली क्रिएशंस'  की खास बात यह भी है कि इसमें खरीदने वाले के बजट का खास ख्याल रखा जाता है। इस काम के लिए उन्हें लगभग 1 लाख लोगों का सहयोग मिल चुका है। इसके साथ ही अब तक 800 से ज्यादा कॉन्सेप्ट पर काम कर चुकी हैं। 


 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP
Edited by: