30 OCTFRIDAY2020 2:00:07 PM
Life Style

हरियाणा में हर दिन 4 बलात्कार और 3 हत्याएं, NCRB का चौकानें वाला खुलासा

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 30 Sep, 2020 05:27 PM
हरियाणा में हर दिन 4 बलात्कार और 3 हत्याएं, NCRB का चौकानें वाला खुलासा

भारत में भले ही महिलाओं की स्थिति पहले से बेहतर हो गई हो लेकिन बलात्कार, घरेलू हिंसा, छेड़खानी, एसिड अटैक जैसी घटानाएं आज भी आम सुनने को मिल जाती है। दिल्ली, यूपी, हरियाणा जैसे शहरों में तो महिलाओं के साथ होने वाले अपराध मानों आम बात हो। NCRB (राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो) के नए आंकड़ों के मुताबिक, तो हरियाणा में हर 4 बलात्कार और 3 हत्याओं के मामले सामने आते हैं।

एनसीआबी ब्यूरो की चौकाने वाली रिपोर्ट

दरअसल, एनसीआबी ब्यूरो ने बीते दिन 'क्राइम इन भारत-2019' की रिपोर्ट पेश की है, जिसके मुताबिक पिछले साल देश में I.P.S. (भारतीय दंड संहिता) के अंतर्गत महिलाओं के साथ होने वाले कुल 32 लाख 25 हजार 701 अपराध के मामले सामने आए हैं। जबकि साल 2018 में यह संख्या 31 लाख 32 हजार 955 थी।

PunjabKesari

देश में लगातार बढ़ रहे मामले

स्पेशल एवं लोकल कानून S.L.L. के तहद होने वाले अपराधों की बात करें तो साल 2019 में इसके तहत 19 लाख 30 हजार 471 अपराध हुए जबकि साल 2018 में 19 लाख 41 हजार 680 अपराधिक मामले सामने आए। इस तरह साल 2019 में देश में कुल 51 लाख 56 हजार 172 कॉग्निजेबल (संज्ञेय) आपराध हुए जबकि 2018 में 50 लाख 74 हजार 635 अपराध के मामले दर्ज किए गए। साल 2018 आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में अपराधिक मामले 1.6 % बढ़े हैं। पिछले साल 62.6 % अपराध आई.पी.सी. और बाकी 37.4 % एस.एल.एल में दर्ज किए गए थे। देश में कुल 51 लाख 56 हजार 172 F.I.R दर्ज की गई।

2017 में कम थे अपराधिक मामले

रिपोर्ट के मुताबिक, 2019 में हरियाणा में कुल 1 लाख 66 हजार 336 अपराध दर्ज हुए, जिसमें से 1 लाख 11 हजार 323 मामले आई.पी.सी के थे। वहीं 55 हजार 13 स्पेशल एवं लोकल कानून  S.L.L. में थे। हरियाणा  में साल 2018 में कुल 1 लाख 91 हजार 229 अपराधिक घटनाएं हुई जबकि साल 2017 में यह आंकड़ा 2 लाख 24 हजार 816 था। देखा जाए तो इस हिसाब से हरियाणा में 1 साल में 24893 घटे हैं जबकि बीते 2 साल में इनमें 58 हजार 480 की कमी आई हैं।

PunjabKesari

हरियाणा में हर दिन 4 बलात्कार और 3 हत्याएं

बीते 2 सालों में आई.पी.सी. के तहद हरियाणा में ज्यादा अपराध दर्ज किए गए है। साल 2017 में 97 हजार 924 और साल 2018 में 1 लाख 8 हजार 212 सामने आए। जबकि साल 2019 में यह आंकड़ा 1 लाख 11 हजार 223 था। साल 2019 में कुल 28 हजार 918 हत्याओं के मामले दर्ज हुए हैं, जिसमें से 29 हजार 928 लोगो की जान चली गई। बता दें कि इसमें हरियाणा में 1137 हत्याएं हुई, जिनमें 1178 लोगों की जान चली गई। इसी तरह साल 2019 में रोजाना 3 व्यक्तियों की मौत हुई।

जबकि साल 2019 में कुल 32033 अपराध हुए, जिनमें कुल पीड़ित 32260 थे। इनमें हरियाणा के 1480 मामले थे यानि पिछले साल प्रदेश में रोजाना 4 बलात्कार हुए। बता दें कि बलात्कार जैसे अपराध में हरियाणा देश के सभी राज्यों और यूपी में 7वें नंबर है। इसके बाद उत्तर प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल और असम जैसे राज्य हैं।

कितने दोषियों को मिली सजा?

एडवोकेट हेमंत ने बताया कि S.L.L. में दहेज निषेध अधिनियम (1961), घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम (2005), (वेश्यावृत्ति कानून ) पॉक्सो एक्ट (2012), अनैतिक व्यापार (निवारण) अधिनियम (1956), IT एक्ट (सूचना तकनीक कानून 2000) शामिल है। वहीं, मर्डर, धारा 302 आई.पी.सी. में आता है। 

PunjabKesari

हैरानी की बात तो यह है कि देश साल 2019 में देश में हत्या के कुल 48 हजार 553 केसो की जांत की गई जबकि 85% केसो की चार्ज शीट दाखिल की गई है। वहीं, 2 लाख 24 हजार 747 केसो का ट्रायल हुआ, जिसमें 6961 दोषी को सजा हुई।

बलात्कार में मामले में यह आंकड़ा करीब 42% रहा। पुलिस द्वारा कुल 45 हजार 536 केसो की जांच हुई, जिसमें 81.5 % केसो की चार्जशीट दर्ज हुआ। 1 लाख 62 हजार 741 केसो ट्रायल होने के बाद 4640 अभियुक्त दोषी साबित हुए ऐसे में बलात्कार के अपराध में सजा की दर 27.8% रही।

Related News