16 JUNWEDNESDAY2021 11:49:27 PM
Life Style

अब तो हद हो गई... घूस नहीं दी तो नहीं मिला घर, Toilet में रहने को मजबूर दादी-पोती

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 10 Jun, 2021 05:43 PM
अब तो हद हो गई... घूस नहीं दी तो नहीं मिला घर, Toilet में रहने को मजबूर दादी-पोती

भारत में कोई भी छोटा काम करवाना हो तो सरकारी अफसर को घूस देनी पड़ती है। जो लोग घूस दे देते हैं उनका काम झट से हो जाता है और जो ना दें उन्हें सरकारी दफतरों के चक्कर काटने पड़ते हैं। हद तो तब हो गई जब घूस ना देने पर एक दादी-पोती को शौचालय में रहने के लिए मजबूर होना पड़ा।

बच्ची के माता-पिता का हो चुका है निधन

दरअसल, बिहार, नालंदा जिले के करायपरसुराय प्रखंड में 75 साल की एक बुजुर्ग महिला कौशल्या देवी और उनकी 10 साल की पोती सपना कुमारी मकान के लिए परेशान है। सपना के माता-पिता का निधन हो गया है, जिसके बाद से ही वह अपनी दादी के साथ इस तपती गर्मी में अपनी दादी के साथ सार्वजनिक शौचालय में जीवन यापन कर रही हैं।

PunjabKesari

धूप-बारिश से बचने के लिए शौचालय में बनाया ठिकाना

दोनों भीख मांगकर पेट भरती हैं और धूप-बारिश से बचने के लिए शौचालय में रहती हैं। उनके पास ना ही तो कोई घर है और ना ही कोई रहने का दूसरा ठिकाना।  उनकी देखभाल करने वाला भी कोई नहीं और ऊपर से उन्हें सरकारी योजना का लाभ भी नहीं मिल पा रहा है।

PunjabKesari

अब तक सरकारी योजना से वंचित दादी-पोती

जहां एक तरफ सरकार प्रशासन वृद्ध महिलाओं के विकास को लेकर दम भरती है वहीं कौशल्या और उनकी पोती सरकारी योजना के लाभ से अब तक वंचित हैं। दोनों ने सरपंच व विधायक से कई बार मदद मांगी लेकिन सरकार व गांव का सरपंच कोई भी इनकी सुध लेने नहीं पहुंचा। हैरानी की बात तो यह है किट बिहार, सीएम नीतीश कुमार इसी जिले को मॉडल के रूप में पेश करते हैं और यहीं से अपनी नई योजनाओं की शुरुआत करते हैं। ऐसे में इन्हें देखकर सिस्टम पर सवाल उठना लाजमी है।

आवास योजना में शामिल हुआ था नाम

आरोप है कि साल 2017 में आवास योजना के तहद कौशल्या देवी को घर मिलना था लेकिन इसके एवज में उनसे पैसे की डिमांड की गई और जब वह पैसे ना दे पाईं तो उनका नाम काट दिया गया। गांव के पूर्व मुखिया रबीश कुमार ने कहा कि उन्होंने कई बार जिले में कौशल्या देवी का मुद्दा उठाया लेकिन अधिकारियों ने कोई मदद नहीं की।

PunjabKesari

Related News