Twitter
You are hereLife Style

दुनिया की पहली मृत महिला डोनर ने दिया स्वस्थ बच्ची को जन्म

दुनिया की पहली मृत महिला डोनर ने दिया स्वस्थ बच्ची को जन्म
Views:- Wednesday, December 5, 2018-7:41 PM

मेडिकल साइंस में आए दिन कोई ना कोई नया चमत्कार देखने को मिलता रहता है। मगर मेडिकल साइंस का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई दंग रह जाएगा। दरअसल, डॉक्टरों ने हाल ही में मृत महिला का गर्भाशय ट्रांसप्लांट किया। खास बात तो यह है कि वह महिला प्रेग्नेंसी भी हो गई और एक स्वस्थ बच्चे को जन्म भी दिया।

ब्राजील के डॉक्टरों ने किया चमत्कार

यह मामला ब्राजील के एक हॉस्पिटल का है, जहां डॉक्टरों ने मृत महिला के गर्भाशय ट्रांसप्लांट करके एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। इस मामले को गर्भाशय संबंधी परेशानियों से जूझ रहे लोगों के लिए वरदान माना जा रहा है। मेडिकल जर्नल के अनुसार, फिलहाल गर्भाशय महिला के रिश्तेदारों की अनुमति से ही दान किया जा सकता है लेकिन फिर भी यह खोज उन महिलाओं के लिए चमत्कार है, जोकि मां बनने का सुख प्राप्त नहीं कर सकती।

PunjabKesari

मौत से 10 घंटे बाद किया ट्रांसप्लांट

खबर के मुताबिक, ब्राजील की 32 वर्षीय महिला दुलर्भ बीमारी के चलते मां नहीं बन सकती थी। इसके बाद डॉक्टरों मे सहमति के बाद ब्रेन हमेरेज से मरी 45 वर्षीय महिला के गर्भाश्य में ट्रांसप्लांट किया। यह सप्लांटेशन सर्जरी करीब 10.5 घंटे तक चली और इस सर्जरी के 5 महीने तक महिला को ऑब्जर्वेशन पर रखा गया। इस दौरान किसी भी तरह की कोई परेशानी सामने नहीं आई तो डॉक्टरों ने मरी हुई महिला के गर्भाशय में फर्टिलाइज्ड एग्स डाले, जिसके 7 महीने और 10 दिन बाद महिला प्रेग्नेंट हुई।

PunjabKesari

स्वस्थ बच्चे को दिया जन्म

प्रेग्नेंट होने के 35 हफ्ते बाद सिजेरियन की मदद से डॉक्टरों ने एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया। जन्म के समय बच्ची का वजन 3 कि.लो. था। सर्जरी के 3 दिन बाद महिला को अस्पताल से डिस्चार्ज भी कर दिया गया।

PunjabKesari

नहीं होगा महिलाओं की जान को जोखिम

डॉक्टरों का कहना है कि स्वस्थ महिलाओं में गर्भाशय ट्रांसप्लांट करने से उनकी जान को खतरा बना रहता था। ऐसे में मृत महिला में गर्भाशय ट्रांसप्लांट करने से इस बात की आशंका भी खत्म हो जाएगी।

500 में से 1 महिला को है यूट्रेस से जुड़ी प्रॉब्लम

पहले भी मृत महिलाओं के गर्भाशय का ट्रांसप्लांट किया जा चुका है लेकिन इस खोज के सफल होने का यह पहला मामला है। मेडिकल जर्नल लैंसेट के अनुसार, 500 में से किसी एक ना एक महिला को गर्भाश्य से जड़ी बीमारी जरूर होती हैं। वहीं, 10-15% जोड़ों को जननांगों से संबंधित प्रॉब्लम्स होती है। ऐसे में ब्राजील की यह खोज लोगों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP
Edited by:

Latest News