30 OCTFRIDAY2020 2:06:01 PM
Life Style

Motivational: बम धमाके ने छीने हाथ लेकिन नहीं तोड़ पाया मालविका का हौंसला

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 21 Sep, 2020 02:13 PM
Motivational: बम धमाके ने छीने हाथ लेकिन नहीं तोड़ पाया मालविका का हौंसला

हादसे ना सिर्फ जिंदगी को बदलकर रख देते हैं बल्कि इससे आत्मविश्वास भी चकनाचूर हो जाता है। मगर, कुछ लोग ऐसे होते हैं ,जो मुश्किल समय में भी मजबूत बनकर उभरते हैं। आज हम आपको ऐसी ही एक शख्सियत के बारे में बताएंगे, जिनकी जिंदगी एक हादसे के कारण पलभर में बदल गई। हम बात कर रहे हैं मालविका अय्यर की, जिन्होंने बम ब्लास्ट में दोनों हाथ खो दिए लेकिन अपनी हिम्मत और हौंसले से आज वह दुनियाभर के लिए प्रेरणा बन गई।

PunjabKesari

एक जोरदार धमाका और बदल गई जिंदगी

28 वर्षीय मालविका ने 13 साल की उम्र में एक हादसे द्वारा अपने दोनों हाथ खो दिए थे। मालविका के खेलते समय पास की गोला बारूद फैक्ट्री से एक ग्रेनेड आकर गिरा और उसे उठाते समय ही वह फट गया, जिससे मालविका बुरी तरह जख्मी हो गई। डॉक्टरों ने मालविका की जान तो बचा ली लेकिन उन्हें अपने दोनों हाथों को गवाना पड़ा। उनके पैरों पर भी गंभीर चोटें आई, जिसे ठीक करने के लिए उसमें लोहे की रॉड डाली गई। 18 महीने तक अस्पताल में रहने और सर्जरी के बाद उन्होंने खुद चलना शुरू कर दिया और उन्होंने प्रोस्थेटिक हाथों के सहारे काम करना भी शुरू कर दिया।

PunjabKesari

हाथ खोने के बाद ली अर्थशास्त्र में डिग्री

इसके बाद मालविका ने क्रैश कोर्स में एडमिशन ली और एक राइटर की मदद से वह बोर्ड एग्जाम में बैठीं। अपनी मेहनत के दम पर उन्होंने अच्छे नंबरों से बोर्ड एग्जाम क्वालीफाई किया। इसके बाद उन्होंने अर्थशास्त्र में ग्रेजुएशन कम्पलीट की। मालविका बताती है कि वह, 'मैं हमेशा ऐसे लोगों से घिरी रहती थी जिनकी जिंदगी में सब कुछ सही चल रहा होता थी और उन्हें मेरी तरह छोटी-छोटी चीजों के लिए संघर्ष नहीं करना पड़ता था।'

PunjabKesari

मुश्किल आई लेकिन नहीं झुकी मालविका

आज मालविका एक इंटरनेशनल मोटिवेशनल स्पीकर हैं और वह निराश हो चुके लोगों को जीने की राह दिखाती है। इसके अलावा मालविका एक्टिविस्ट, सोशल वर्क में पीएचडी के साथ फैशन मॉडल भी हैं। अपने काम की वजह से ही उन्हें इंटरनेशनल लेवल पर कई अवॉर्ड्स भी मिल चुके हैं। मालविका ने बताया कि, 'मेरा परिवार हर मौके पर मेरे साथ पूरी मजबूती के साथ खड़ा रहा। उन्होंने मुझपर यकीन किया और हमेशा मेरी जीत को सेलिब्रेट किया।'

PunjabKesari

अपनी जिंदगी से दूसरों को कर रही प्रेरित

2012 में उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी कहानी को सांझा किया, जिसके बाद उन्हें TEDx talk में बोलने के लिए बुलाया गया। इसके बाद वह यूनाइटेड नेशन के हेडक्वार्टर में भी अपनी कहानी को सांझा करने के लिए गई। आज वह पूरी दुनिया में 300 से भी अधिक स्पीच दे चुकी हैं। मालविका जिंदगी को काफी सकारात्मक रूप से देखती है और दूसरों को भी प्रेरित करती रहती हैं।

PunjabKesari

नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित

वह दिव्यागों के लिए सोशल वर्क भी करती हैं। इसके अलावा कर विकलांगों के लिए नए कानून और नियमों की मांग के लिए विदेशों तक गई। आज उनके साहस की कहानी हर किसी की जुबान पर हैं। मालविका के हौंसले और सोशल वर्क के लिए उन्हें 'नारी शक्ति पुरस्कार' से भी सम्मानित किया जा चुका है। 

PunjabKesari

वाकई, मालविका उन लोगों के लिए मिसाल है जो जिंदगी में दुख आने पर हौंसला या हिम्मत छोड़ देते हैं। अपनी जिंदगी संवारने के बाद आज मालविका कई लोगों की मदद में जुटी हुआ है।

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News