04 AUGTUESDAY2020 1:43:04 AM
Life Style

डॉ. शिवानी: कपड़े के बैग में उगाए तरबूज, किचन के कचरे से बनाई खाद

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 08 Jul, 2020 03:58 PM
डॉ. शिवानी: कपड़े के बैग में उगाए तरबूज, किचन के कचरे से बनाई खाद

लॉकडाउन के कारण देशभर के लोगों को अपना हुनर निखारने का मौका मिल गया है। कोई अपने पेटिंग तो कोई गार्डनिंग के शौक को पूरा कर रहा है। उन्हीं में से एक हैं यूपी के मेरठ की रहने वाली डेंटिंस्ट शिवानी कालरा जो आजकल अपने तरबूज को लेकर काफी चर्चा में है।

कपड़े के बैग में उगा रही तरबूज

दरअसल, शिवानी कोरोना काल में घर की छत पर कंटेनर व कपड़े के बैग में तरबूज उगा रही हैं। जब उन्होंने गार्डनिंग की शुरूआत की तो एक माली कहा कि तुमसे नहीं होगा। मगर, आखिरकार शिवानी ने तरबूज उगाकर साबित कर दिया कि कोई भी काम मुश्किल नहीं होता।

PunjabKesari

किचन के कचरे से बनाई खाद

वह तरबूज उगाने के लिए कपड़े से बने बैग का भी यूज कर रही है क्योंकि इसमें पानी, मिट्टी में से आसानी से निकल जाता है। इससे इंफैक्शन का खतरा नहीं रहता और मिट्टी में नमी भी बनी रहती है। बता दें कि शिवानी खाद के लिए कोकपीट, किचन का कचरा, काली तरल चीजें और सूखी पत्तियां यूज कर रही हैं।

घर की छत पर बनाया बगीचा

उन्होंने अपने घर की छत पर एक छोटा-सा बगीचा भी बनाया है, जिसमें तरबूज के अलावा कई सब्जियां है। यही नहीं, उन्होंने साइंटिफिक तरीके से कई तरह के फल भी उगाए हैं।

PunjabKesari

गार्निंग के दिए टिप्स

शिवानी ने कहा कि तरबूज उगाने के लिए आपको उसकी वैरायटी भी देखनी होगी। बेबी शुगर और बैक हाइब्रिड तरबूज उगाना में आसान होते हैं क्योंकि यह कम खाद व पानी में ही बड़े हो जाते हैं। इसके लिए आपको सिर्फ मिट्टी में नमी बनाकर रखने की जरूरत होती है। साथ ही इसके लिए आपको ज्यादा समय भी नहीं चाहिए होता।

खराब होने से बचाएंगे सूखे पत्ते

वह तरबूजों कीड़ों से बचाने के लिए उन्हें सूखे पत्तों पर रख देती हैं। उनके मुताबिक यह कीटनाश्क का काम करते हैं। साथ ही मधुमक्खियों से तरबूज को बचाने के लिए उन्होंने अपने बगीचे में सूरजमुखी के पौधे भी लगा रखें हैं, ताकि वह इनकी तरफ अट्रैक्ट हो।

PunjabKesari

Related News