01 JUNMONDAY2020 11:54:35 AM
Life Style

'भूख से अच्छा परिवार संग मरे',सड़कों पर मारे फिर रहे लोगों का दर्द भरा बयान

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 29 Mar, 2020 03:38 PM
'भूख से अच्छा परिवार संग मरे',सड़कों पर मारे फिर रहे लोगों का दर्द भरा बयान

यूनियन फाइनेंस मिनिस्टर  Nirmala Sitharaman ने बीते वीरवार 1.7 लाख करोड़ के फंड का ऐलान किया। यह फंड उन गरीब मजदूरों तक राशन पानी पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा सुनिश्चित किया गया। मगर बावजूद इसके गरीब वर्ग के लोग सड़कों पर भूखे प्यास के मारे भटकते दिखाई पड़े। 

PunjabKesari

पास किए गए रिलीफ फंड की मदद से अगले आने वीले 3 महीनों तक सरकार द्वारा मजदूर लोगों तक राशन पहुंचाने की बात कही गई। गांव में रोटी और खान पान का जरिया न होने के कारण यह लोग अपना परिवार, घर और गांव छोड़कर शहरों में काम करने आते हैं। 

PunjabKesari

ऐसे में जब एक मीडिया रिपोर्टर ने सड़कों पर मारे फिर रहे लोगों से बात की तो उनमें से मनीपुर के रहने वाले रनवीर सिंह ने बताया सरकार ने तो भारत बंद का एलान कर दिया, मगर आने वाले इन दिनों में मैं बच्चों का पेट कैसे भरूंगा। रनवीर नोएडा में Carpentor का काम करता है। भारत बंद की खबर सुनते ही रनवीर अपनी पत्नि और दो बच्चों संग पैदल ही मनीपुर के लिए रवाना हो गया। 

PunjabKesari

सिंह ने मीडिया को बताया कि हमने काफी देर तक सरकार द्वारा ऐलान की गई बसों का इंतेजार किया, मगर कुछ न बन पाने और ऊपर से पैसों की तंगी के चलते उन्हेॉ मजबूरन पैदल चलना पड़ा। रनवीर अकेले ऐसे व्यक्ति नहीं बल्कि उन जैसे हजारों ऐसे लोग हैं, जिन्हें मजबूरन पैदल ही दूर स्थित अपने गांव जाना पड़ रहा है। 

Related News