28 MARSATURDAY2020 8:39:44 PM
Life Style

40वें साल में आई चंद्रमुखी चौटाला नहीं बनना चाहती अब मां

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 15 Feb, 2020 03:56 PM
40वें साल में आई चंद्रमुखी चौटाला नहीं बनना चाहती अब मां

टीवी इंडस्ट्री की जानी-मानी हस्ती कविता कौशिक का आज जन्मदिन है। कविता अपने माता-पिता की इकलौती बेटी है। चंद्रमुखी चौटाला के रोल से फेमस हुई कविता ने एकता कपूर के सीरियल कुतुंब से डेब्यू किया, हालांकि अपने इस सफर की असल शुरूआत उन्होने अपने कॉलेज के दिनों से की। कविता को शुरू से ही इस लाइन में अपना करियर बनाना था। कविता अपने कॉलेज में भी मॉडलिंग करती थी। कविता को शुरूआती दौर में सिर्फ नेगेटिव रोल ही मिला करते थे। कविता ने 2006 में इन रोलस को मना कर , चंद्रमुखी चौटाला का रोल किया जो लोगों ने खूब पंसद भी किया।

PunjabKesari

कविता सोशल एक्टीविटी में भी आगे रहती है, कविता ने एक फैमिली को अडॉप्ट किया है जिनकी सारी देख- रेख वे और उनके पति रोनित मिलकर करते हैं। कविता ने बॉलीवुड में ही नही बल्कि पंजाबी सिनेमा में भी काम किया। हालांकि आज कल इंडस्ट्री से दूरी बनाए रखने का कारण बताते हुए कविता ने कहा कि उन्हें वैसे रोल नही मिल रहे हैं जैसे वे चाहती हैं।

PunjabKesari

कविता ने अपनी एक इंटरव्यू में बताया कि वह जब 4 साल की थी तो उनका दिल एक कलाकार पर आ गया था।
हालांकि वो कलाकार कोई और नही बल्कि टार्जन फिल्म के हीरो हेमंत बिरज थे। कविता ने कहा टार्जन में मुझे हेंमत का अंदाज बहुत पंसद आया और मुझे पहली ही नजर में वो अच्छे लगने लगे।

PunjabKesari

कविता के रिलेशनशिपस -

कविता अपने रिलेशनशिप स्टेटस के लिए भी काफी चर्चा में रही हैं, कविता अपने एक्स ब्वॉयफ्रेंड करन ग्रोवर के साथ नच बलिए-3 में भी नज़र आ चुकी है मगर ये रिलेशन ज्यादा देर तक नही चला और 2008 में वे दोनों अलग हो गए। इसके बाद कविता की मुलाकात नवाब शाह से हुई दोनों ने एक दूसरे को लम्बे अरसे तक डेट किया पर फिर फैमिली प्रॉब्लम के चलते दोनों को अलग होना पड़ा। खबरें तो ये भी थी कि दोनों के धर्म अलग होने की वजह से दोनो को ब्रेकअप करना पड़ा। इसके बाद कविता ने अपने बेस्ट फ्रैंड रोनित बिसवास को डेट किया जिनके साथ वह 2017 में शादी के बंधन में बंध गई।

 

PunjabKesari

क्यों नही बनना चाहती मां ?

कविता ने शादी तो की लेकिन वो जिंदगी में कभी मां नहीं बनना चाहती हैं जिसकी पीछे उनकी एक सोच छिपी है। दरअसल, कविता का मानना है कि वे 40 सालों की होकर भी वह मां इसलिए नही बनना चाहती क्योंकि वे नही चाहती कि उनके बच्चों को उनकी देखभाल करनी पड़े और उनके बच्चे अपनी जिंदगी हमारी देखभाल में न जी पाए,  हम दोनों बहुत खुश है हमारी इस छोटी सी जिदंगी में।

 

भई कविता की यह सोच तो ठीक है कि वो अपने बच्चे पर अपनी बुढ़ापे का भोज नही डालनी चाहती लेकिन आपका इस बारे में क्या कहना है, हमें कमेंट बॉक्स में बताना ना भूलें। 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News