08 AUGSATURDAY2020 9:37:32 AM
Life Style

लाजवाब! कला के साथ रोजगार, खजूर के पत्तों से दिव्यांग अनिल ने बनाई राखियां

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 02 Aug, 2020 04:26 PM
लाजवाब! कला के साथ रोजगार, खजूर के पत्तों से दिव्यांग अनिल ने बनाई राखियां

कोरोना वायरस महामारी ने कई लोगों का आजीविका को तहस-नहस कर दिया है। इसी बीच भारत में त्यौहारों का सीजन शुरू हो चुका है। लोग आजीविका के नए अवसर की तलाश कर रहे हैं जबकि एक दिव्यांग अनिल ने त्यौहारों को ही अपना रोजगार बना डाला।

 

खजूर से राखियां बना रहा यह शख्स

दरअसल, रक्षाबंधन को देखते हुए छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा के रहने वाले अनिल इको फ्रेंडली राखियां बनाने में जुटे हुए हैं। अपनी आजीविका के लिए वह खजूर के पत्तों का इस्तेमाल कर राखियां तैयार कर रहे हैं। न्यूज एजेंसी को इंटरव्यू देते हुए अनिल ने बताया कि खजूर से राखियां बनाने के लिए उन्हें आधा घंटा लग जाता है।

PunjabKesari

कलेक्टर दीपक ने उठाई राखी मार्केट पहुंचाने की जिम्मेदारी

राखियां मार्केट तक पहुंचाने के लिए उन्होंने प्रशासन से गुहार लगाई हैं। इसके बाद से ही उनकी राखियां बाजार तक पहुंचाने का जिम्मा दंतेवाड़ा के कलेक्टर दीपक सोनी ने अपने सिर ले लिया। यही नहीं, वह सोशल मीडिया के जरिए भी अनिल द्वारा बनाई गई राखियों का प्रचार कर रहे हैं। यही नहीं, उन्होंने उनके द्वारा बनाई गई राखियों को रायपुर भी भेजा है।

PunjabKesari

दूसरे लोगों को भी सिखा रहे राखी बनाना

अनिल बचपन से ही एक कान से सुन नहीं सकते लेकिन आज अपने हुनर से वह दूसरों लोगों को भी राखी बनाना सिखा रहे हैं। उनके द्वारा बनाई गई यह राखियां सोशल मीडिया पर खूब ट्रेंड कर रही है और हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है।

PunjabKesari

अनिल की इको-फ्रेंडली राखी सिर्फ उन्हें रोजगार नहीं दे रही बल्कि यह देश को प्लास्टिक मुक्ति बनाने की भी एक अनोखी पहल है, जिसमें हम सभी को सहयोग देना चाहिए।

Related News