20 OCTSUNDAY2019 4:17:58 AM
Life Style

केरल सरकार फ्री में क्यों बांट रही है पीरियड वाला कप, महिलाओं के लिए जानना जरूरी

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 28 Jun, 2019 05:13 PM
केरल सरकार फ्री में क्यों बांट रही है पीरियड वाला कप, महिलाओं के लिए जानना जरूरी

मासिक धर्म, महीना और माहवारी, जिसे हम आजकल आम भाषा में पीरियड्स कहते हैं, आज से कुछ साल पहले इस पर बात करना तो मानों हमारे समाज में एक टेब्बू था लेकिन पिछले कुछ सालों में पीरियड्स को लेकर खुलकर बातचीत होनी शुरु हो गई है। इस पर कई फिल्में भी बनीं हैं। पैडमेन नाम की फिल्म भी इसी पर आधारित थी। ऐसी ही कोशिशों के चलते सैनिटिरी नेपकिन इस्तेमाल पर बढ़ावा दिया गया और बदलाव आया भी।

PunjabKesari

मीडियम रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में हर साल लगभग 43.2 करोड़ सैनिटरी नैपकिन इस्तेमाल होते हैं। वहीं 2015-16 की नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक, 48.5 फीसद गांव की औरतें, 77.5 फीसद शहरी औरतें, और एवरेज तौर पर 57.6 फीसद महिलाएं सेनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं।

PunjabKesari

लेकिन आज का मुद्दा पैड्स के इस्तेमाल का नहीं बल्कि इससे जुड़े साइड इफेक्ट्स का है जिन नेपकिंस के इस्तेमाल का बढ़ावा दिया जा रहा है, वह सेहत के लिए नुकसान देह है क्योंकि यह सिंथेटिक के बने होते हैं। यह रीसाइकिल नहीं होते इसलिए पर्यावरण को भी इसका खतरा है। 

 

इसी बात को ध्यान में रखते हुए केरल सरकार औरतों को मेंस्ट्रुअल कप्स के इस्तेमाल की बात रखी। दरअसल सरकार को यह आइडियाज तब आया जब बाढ़ के कारण हजारों औरतें रिलीफ कैंप्स में रह रही थीं और उनके द्वारा इस्तेमाल किए पैड्स को ठिकाने लगाने की सिचुएशन सामने आई। तब मेंस्ट्रुअल कप्स के इस्तेमाल का सुझाव रखा गया। शनिवार को थॉमस आइसैक ने अलप्पुझा में थिन्कल मेंस्ट्रुअल कप प्रोजेक्ट लॉन्च किया और 5000 मेंस्ट्रुअल कप फ्री में बांटे गए।

PunjabKesari

जानिए, क्या होते हैं ये मेंस्ट्रुअल कप्स?

ये कप्स सिलिकॉन के बने होते हैं और सिलिकॉन एक तरह की रबर जैसी चीज होती है जो शरीर के लिए सेफ होता है।

कैसे होते हैं इस्तेमाल?

कप की चौड़ी तरफ के हिस्से को फोल्ड करके दोहरा कर लें, फिर उसे वजाइना के भीतर रखें। आप पहले टैम्पोन नेपकिन से प्रैक्टिस कर सकते हैं। शुरू-शुरू में हो सकता है कि आपको आदत ना हो लेकिन एकाध महीने के बाद आपको इसकी आदत हो जाएगी। इसे आप 6 से 7 घंटे इस्तेमाल कर सकते हैं और बाद में इसे आप खाली कर दें। 

PunjabKesari

कैसे काम करते हैं?

ये कप्स यूट्रस से निकलने वाले ब्लड को इक्ट्ठा कर लेते हैं जिन्हें आप बाद में साफ पानी से धो भी सकते हैं। 

पीरियड्स कप के फायदे

पीरियड का खून शरीर से बाहर नहीं आता।
लंबे सफर में बार-बार पैड चेंज करने का झंझट नहीं।
स्मेल और रैशेज की कोई परेशानी नहीं
एक कप को आप 10 साल तक यूज कर सकते हैलेकिन सही ढंग से।
इसे पहनकर आप स्विमिंग कर सकते हैं क्योंकि इसमें ब्लड लीकेज के चांसेज कम होते हैं। 

किस रेंज में मिलेंगे आपको ये मेंस्ट्रुअल कप्स?

आपको ये कप ऑनलाइन आसानी से सिर्फ 500 से 700 रुपए में मिल जाएंगे।बता दें कि आपकी सेहत और पर्यावरण की सुरक्षा दोनों ही जरूरी है  इसलिए पीरियड्स के लिए इन कप्स को बढ़ावा दिया जा रहा है। 

Related News