19 SEPTHURSDAY2019 4:29:43 PM
parenting

प्रेग्नेंसी से जुड़े 8 Myths जिन्हें सच मानती हैं महिलाएं

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 07 Mar, 2019 11:31 AM
प्रेग्नेंसी से जुड़े 8 Myths जिन्हें सच मानती हैं महिलाएं

शादी के कुछ महीने बाद ही अक्सर घर व आस-पास वाले लड़की से प्रेग्नेंसी से जुड़े सवाल पूछने लगते हैं, थोड़ी सी देरी हुई नहीं कि उन्हें सलाह दी जाती है कि प्रेग्नेंसी समय पर कर लो नहीं तो बाद में परेशानी होगी... और जब एक बार प्रेग्नेंसी हो जाए तो बस फिर तो हर कोई अपनी राय देने को तैयार रहता है। कोई कहता है कि पेट को ढककर रखों नजर लग जाएगी तो कोई चाल-चलन से अंदाजा लगाता है कि लड़का होगा या लड़की।

 

सिर्फ यहीं नहीं, लड़की को सुबह उठने से लेकर रात के सोने तक, अलग-अलग हिदायते दी जाती हैं। आपने भी अपने आस-पास महिलाओं को इस बारे में बात करते सुना या देखा होगा। प्रेग्नेंसी से जुड़े आज भी बहुत सारे मिथक हैं जो लड़कियों द्वारा फॉलो भी किए जाते हैं। आज हम इन्हीं मिथ्स के बारे में आपको बताते हैं जो फॉलो किए जा रहे हैं लेकिन यह बिलकुल झूठ है। 

 

पहला मिथः सफेद चीजें खाएंगे तो बच्चा होगा गौरा

महिलाओं को दूध, दही जैसी सफेद चीजें जमकर खाने को कहा जाता है ताकि बच्चा गौरा पैदा हो जबकि खाने के रंग से बच्चे के रंग का कोई Connection नहीं है। 

PunjabKesari

दूसरा मिथः एक्सरसाइज बिलकुल ना करें

अक्सर महिलाएं प्रेग्नेंसी के दौरान एक्सरसाइज करना छोड़ देती हैं क्योंकि उन्हें डर होता है कि इससे गर्भ में पल रहे बच्चे को नुकसान होगा लेकिन ऐसा नहीं है। एक्सरसाइज बहुत जरूरी हैं लेकिन हल्की-फुलकी। प्रेग्नेंसी में कई महिलाओं को नींद ना आने और बेक पैन की प्रॉब्लम होती हैं जो एक्सरसाइज से दूर होती है। 

 

तीसरा मिथः 2 लोगों का खाना खाएं

अक्सर महिलाएंगर्भवती को यह हिदायत तो देती ही हैं कि वह दो लोगों का खाना खाए लेकिन ऐसा कुछ नहीं होता। बस आपको डाइट में 300 कैलोरी ज्यादा लेने व प्रोटीन डाइट लेने चाहिए।

 

चौथा मिथः सेक्स बिलकुल ना करें

इस दौरान सेक्स नहीं करना चाहिए क्योंकि बच्चे के लिए यह सही नहीं होता जबकि यह गलत है जबकि प्रेग्नेंसी के कुछ हफ्ते पहले संबंध नहीं बनाने चाहिए।

 

पांचवा मिथः बच्चे के लिंग का अंदाजा

बंप नीचे की ओर लड़का और ऊपर की तरफ होने से लड़की होगी लेकिन यह धारणा पूरी तरह गलत है। प्रैग्‍नेंसी के दौरान बेबी बंप की शेप पेट के आकार, चर्बी, मांसपेश‍ियों और यूट्रेस के अंदर बच्चे की पोजिशन पर निर्भर करती है।

PunjabKesari

छठा मिथः डिलीवरी के एकदम बाद वजन कम

बहुत सी महिलाओं को लगता है कि जैसे ही वह बच्चे को जन्म देंगी तो तुरंत उनका वजन कम होगा जो कि मिथक है। प्रेग्नेंसी के दौरान महिला का लगभग 11 से 16 किलो वजन बढ़ता है लेकिन डिलिवरी के दौरान 4 से 5 किलो कम होता है और पूरी तरह से वजन कम होने में कम से कम 1 साल की अवधि लग जाती है। 

 

सातवां मिथः हवाई सफर ना करें

यह भी बिल्कुल गलत है। अगर आपकी डिल‍िवरी डेट में कम से कम छ हफ्ते का समय बचा है तो कभी-कभार प्‍लेन से सफर करने में कोई बुराई नहीं है। आप डॉक्टर से सलाह लेकर प्लेन में सफर कर सकती हैं।

 

आठवां मिथः हार्टबर्न से बच्‍चे के बालों की ग्रोथ अच्छी

कुछ लोगों का कहना है कि प्रैग्नेंसी में हार्टबर्न होने पर बच्‍चे के बालों की ग्रोथ अच्छी होती है, जबकि यह पूरी तरह गलत है। प्रेग्नेंसी में हार्टबर्न की समस्या, फूड पाइप में एसिड आ जाने की वजह से होती है।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News