19 SEPTHURSDAY2019 8:46:39 AM
health

मैनीक्योर की शौकीन महिलाओं के लिए अलर्ट, 22 साल की महिला हुई HIV की शिकार

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 18 Aug, 2019 11:14 AM
मैनीक्योर की शौकीन महिलाओं के लिए अलर्ट, 22 साल की महिला हुई HIV की शिकार

हाथ-पैर की खूबसूरती और साफ-सफाई के लिए महिलाएं अक्सर पार्लर में जाकर मैनीक्योर-पैडीक्योर करवाती हैं लेकिन पार्लर में करवाएं यह मैनीक्योर-पैडीक्योर आपके के लिए मुसीबत का कारण बन सकते हैं। अगर आप भी नाखूनों की सफाई के उपकरणों को सांझा करती हैं तो... जरा सावधान हो जाएं क्योंकि 22 साल की महिला के साथ जो हुआ वह सच में आपको हैरान कर देगा। 

PunjabKesari

न्यूयार्क डेली न्यूज के मुताबिक, 22 साल की ब्राजीलियाई महिला मैनीक्योर करवाने से एचआईवी की शिकार हो गई क्योंकि उन्होंने साझा किए मैनीक्योर उपकरण इस्तेमाल किए थे। डाक्टरों का कहना है कि यह मामला पिछले साल एड्स रिसर्च एंड ह्यूमन रेट्रोवायरस में प्रकाशित हुआ था, जो "वायरस के लिए संचरण के नया रूप" पर प्रकाश डालता है।

PunjabKesari

जबकि रिपोर्ट के मुताबिक, महिला ने ना तो असुरक्षित संबंध बनाएं थे और न ही किसी तरह की असुरक्षित सुई का इस्तेमाल किया गया था। जांच में पता चला कि महिला ने सालों पहले अपने चचेरे भाई के साथ मैनीक्योर के उपकरण सांझा किए थे जो एचआईवी पॉजिटिव पाया गया था। वहीं रक्त विश्लेषण के सुझाव के मुताबिक,  महिला में पहली बार लगभग 10 साल पहले यह वायरस मिला था।

 

चलिए अब आपको बताते हैं कुछ जरूरी बातें...

सबसे पहले तो आपको बता दें कि एचआईवी यानि कि एड्स, किसी के साथ खाना खाने, या संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने, बर्तन सांझा करने या एक ही गिलास में पानी पीने से नहीं होता। यह सांस के जरिए फैलने वाला रोग भी नहीं है।

PunjabKesari

बल्कि इस रोग का मुख्य कारण संक्रमित व्यक्ति से असुरक्षित संबंध बनाना है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति के लिए इस्तेमाल किए उपकरण का स्वस्थ व्यक्ति के लिए इस्तेमाल करना है जिसका संबंध रक्त से हो, जैसे एक ही सुई का कई बार इस्तेमाल। टीकाकरण, खून दान करने, टैटू बनवाने वाली निडल, एक्यूपंक्चर तकनीक के लिए इस्तेमाल होने वाली सुई का इस्तेमाल इस संक्रमण के फैलने की वजह बनते हैं। उसी तरह मैनीक्योर- पैडीक्योर में इस्तेमाल होने वाले उपकरण भी इसकी वजह बन सकते हैं इसीलिए सावधानी बरतें।

कोई भी उपकरण इस्तेमाल करने से पहले पूरी जांच करें ताकि ऐसी खतरनाक बीमारी से बचा जा सके।

Related News