Twitter
You are hereNari

UPSC: टॉप 25 में शामिल हुई देश की 8 बेटियां, कोई रहीं बच्चे से दूर तो किसी को छोड़नी पड़ी नौकरी

UPSC: टॉप 25 में शामिल हुई देश की 8 बेटियां, कोई रहीं बच्चे से दूर तो किसी को छोड़नी पड़ी नौकरी
Views:- Sunday, April 29, 2018-7:14 PM

'यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन' यानि UPSC के एग्जाम 2017 के फाइनल रिजल्ट 27 अप्रैल को जारी कर दिए गए। इस एग्जाम में अनुदीप डुरीशेट्टी ने टॉप किया, वहीं दूसरे नंबर पर अनु कुमारी व तीसरे पर सचिन गुप्ता ने बाजी मारी। रिपोर्ट के मुताबिक,  इस यूपीएससी एग्जाम में सफल 990 उम्मीदवारों में से 750 पुरुष व 240 महिलाएं शामिल हैं। अगर महिलाओं की बात की जाएं तो पहले 25 रैंक में से 8 स्थान महिलाओं ने हासिल किए हैं। 

बता दें कि भारत में आईएएस को देश की सबसे प्रतिष्ठित सेवा माना जाता है। हर साल यूपीएससी द्वारा आयोजित की जाने वाली इस परीक्षा में लाखों युवा अपना भाग्य आजमाते हैं, जिसमें से कुछ गिने-चुने लोगों को ही सफलता मिलती है। सबसे कठिन मानी जाने वाली इस परीक्षा में हर साल हमें कुछ ऐसे युवाओं की कहानियां भी सुनने को मिलती हैं जो अनेक परिस्थितियों और चुनौतियों से लड़ते हुए इस परीक्षा में मुकाम हासिल करते हैं।  आज हम आपको पहले 25 रैंक में अपनी जगह बनाने वाली 8 महिलाओं के बारे में बताएंगे, जिन्होंने कड़ी मेहनत कर अपने लक्ष्य को हासिल किया। 


1. अनु कुमारी
31 साल की अनुकुमारी जो कि हरियाणा के सोनीपत जिले की रहने वाली हैं, उन्होंने 12 साल पहले ग्रैजुएशन कंप्लीट किया था।  2006 में दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिंदू कॉलेज में फिजिक्स ऑनर्स और फिर आईएमटी नागपुर से एमबीए किया। इसके बाद 8-9 साल प्राइवेट नौकरी करने के बाद उन्होंने अपना करियर बदलने की सोची और यूपीएससी के एग्जाम की तैयारी में जुट गई।  शादीशुदा अनु का 4 साल का बेटा (वियान) भी है। बेटे की वजह से उन्हें तैयारी में दिक्कतें आ रही थी, इसलिए उन्होंने बेटे को अपनी मां के पास छोड़ा और मौसी के पास गांव में चली गई। आपको बता दें कि जिस गांव में वह रह रहीं थी, वहां अखबार की सुविधा नहीं थी। उन्होंने बिना कोचिंग सिर्फ इंटरनेट के माध्यम से अपनी तैयारी जारी रखी। डेढ़ साल की कड़ी मेहनत के बाद उन्होंने दूसरे रैंक की सफलता हासिल की जबकि वह महिलाओं में पहले स्थान पर रहीं।  
PunjabKesari

2. सौम्या शर्मा 
23 साल की सौम्या शर्मा ने इस एग्जाम में 9वां रैंक हासिल किया जबकि लड़कियों में वह दूसरे स्थान पर रहीं। लॉ स्टूडेंट रहीं सौम्या ने बिना किसी कोचिंग क्लास के यह सफलता हासिल की। इतना ही नहीं, परीक्षा के समय वह 103 डिग्री बुखार से तप रही थीं। आपको बता दें कि  2017 में ग्रैजुएशन कंप्लीट करने वाली सौम्या सुन नहीं सकती है। उन्हें यह परेशानी 11वीं कक्षा में जाने के बाद शुरू हुई लेकिन उन्होंने इस कमजोरी को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। इस परीक्षा में शारीरिक रूप से अशक्त 29 उम्मीदवार भी शामिल रहे।
PunjabKesari

3.आशिमा मित्तल
राजस्थान के जयपुर की आशिमा मित्तल ने इस परीक्षा में 12वां रैंक हासिल कर राज्य और अपने परिवार का नाम रोशन किया। इस परीक्षा में उन्होंने दिन-रात पढ़ाई की लेकिन आपको बता दें कि इसके साथ ही आशिमा एक अनाथ बच्चों की संस्था से भी जुड़ी हुई हैं। आईएएस बनने के साथ उनका सपना गरीब व पढ़ाई से वंचित बच्चों को शिक्षित करने का है इसलिए वह अपने आसपास की बस्तियों के गरीब बच्चों को शिक्षा भी दे रही हैं। 
PunjabKesari

4. नेहा जैन 
दिल्ली की नेहा जैन पहली कोशिश में ही आईएएस बन गई। उन्होंने रैंक में 14वां स्थान प्राप्त किया जबकि लड़कियों में वह चौथे स्थान पर हैं। वह आईबीएम बैंगलुरू में नौकरी करती थी लेकिन इस परीक्षा की तैयारी के लिए उन्होंने जॉब छोड़ दी और एक साल दिल्ली में रहकर आईएएस की तैयारी की। इसके लिए उन्होंने अकादमी से गाइडेंस ली और सुबह से लेकर शाम तक क्लास में रहकर अपनी पढ़ाई पर फोक्स किया। बुक्स को अपना पहला दोस्त मानने वाली नेहा ने इस तरह से परीक्षा में सफलता हासिल की। 
PunjabKesari

5.  शिवानी गोयल
संगम नगरी की रहने वाली शिवानी गोयल ने यूपीएससी में 15वां रैंक हासिल किया है जबकि उन्होंने लड़कियो में पांचवां स्थान प्राप्त किया।

   PunjabKesari      
6. शिखा सुंदरन
एर्णाकुलम जिले की शिखा सुंदरन ने इस परीक्षा में 16वां रैंक हासिल किया।  उन्होंने इस परीक्षा की तैयारी सिविल इंजीनियरिंग से बीटेक करने के बाद साल 2015 से शुरू कर दी थी हालांकि पहले प्रयास में उन्हें सफलता नहीं मिली लेकिन उन्होंने हार ना मानते हुए तैयारी जारी रखी। 
PunjabKesari

7. अभिलाषा अभिनव
अभिलाषा अभिनव ने 18वां रैंक हासिल कर महिलाओं में 7वां स्थान प्राप्त किया बता दें कि अभिलाषा ने दूसरे प्रयास यह सफलता हासिल की हैं और इससे पहले उन्होंने राजस्व सेवा का कैडर भी हासिल किया था। फिलहाल वह आईटी कमिश्नर के रूप में नागपुर में अंडर ट्रेनिंग हैं। 
PunjabKesari

8.  तपस्या परिहार 
मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर की रहने वाली तपस्या परिहार ने यूपीएससी की परीक्षा में 23 वां रैक हासिल किया है। तपस्या परिहार ने लॉ की पढ़ाई की और उनके पिता किसान हैं।  25 के रैंक में तपस्या ने महिलाओं में आठवां स्थान प्राप्त किया।
 PunjabKesari
 


फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP
Edited by: