Twitter
You are hereLatest News

कभी-कभी प्यार में भी पति-पत्नी को करने पड़ते है ये समझौते

कभी-कभी प्यार में भी पति-पत्नी को करने पड़ते है ये समझौते
Views:- Tuesday, November 14, 2017-5:31 PM

रिश्ता निभाने का मतलब तभी है, जब उनमें प्यार हो। कभी-कभी इन रिश्तों की बुनियाद बनाएं रखने के लिए कुछ बातों को लेकर समझौता भी करना पड़ जाता है। बस ध्यान रखें कि इतना बिल्कुल न झूके कि सामने वाला आपकी इज्जत करना ही भूल जाए। हम आपको कुछ ऐसे ही बातों के बारे में बताएं, जिनमें बैलेंस करके रखना ही जरूरी है। इससे आपका रिश्ता लंबे समय तक खुशहाल रहेगा। 

 

-पैरेंट्स को लेकर बात करें
अगर आप अपने पेरेंट्स की चिंता कर सकती है तो आपके पार्टनर को भी उनकी चिंता करने का हक है। भले ही आपकी इन लॉज के साथ न बनती हो लेकिन पार्टनर की खुशी की के लिए उनके मदद करें। 

-पैसों को लेकर समझौता
कभी भी पैसों को लेकर आपस में लड़ाई न करें। पति के साथ बैठकर डिसाइड करें कि कौन सी चीज ज्यादा जरूरी है। अपनी चीजों( कपड़े, ब्यूटी प्रॉडक्ट, शॉपिंग) को लेकर कभी-कभी समझौता कर लें। 

-इच्छा न हो, पार्टनर का साथ दें
दिनभर काम करके थकान होना लाजमी है, ऐसे में अगर पार्टनर अपने ऑफिस की पार्टी में जाने को कहें तो न बिल्कुल न करें। पार्टनर की खुशी के लिए पार्टी में जाएं।

-खुशी का ध्यान रखें
भले पार्टनर ने आपकी को एक्टपेंसिव गिफ्ट न दिया हो। इस बात को लेकर उनसे लड़ाई करने से बचें, बल्कि उन्हें अहसास दिलाएं कि उनके लिए पैसे से ज्यादा वो मायने रखते है। 

-हो तो खुद शांत हो जाएं
रिश्तों में तकरार तो लगी ही रहती है। अगर यह लड़ाई बढ़ जाए तो इसको कम करने के लिए खुद शांत हो जाएं। शायद उन्हें गलती का अहसास हो जाए। 

-काम में साथ दें
अगर पार्टनर कुछ बड़ा करना चाहता है तो उन्हें उस बात के लिए प्रेरित करें। अगर वह इस सपने को पूरा करने कही बाहर जाना चाहते है तो उनके इस फैसलों को अपना फैसला समझ लें। 

-संबंध को लेकर समझौता
माना कि आज आप रोमांस करने के मूड में है लेकिन पार्टनर किसी टेंशन में है तो उनपर अपनी मर्जी न धोपें। बल्कि उसकी समस्या को समझकर उसे सुलझाने की कोशिश करें।