Twitter
You are hereNari

ये हैं पाकिस्तान की सबसे Dangerous सड़कें

ये हैं पाकिस्तान की सबसे Dangerous सड़कें
Views:- Saturday, May 6, 2017-6:03 PM

पंजाब केसरी (ट्रैवलिंग) : कई लोगों को ड्राइविंग करने का बहुत शौंक होता है लेकिन सड़कें इतनी खतरनाक होती हैं कि वाहन चलाते समय जान भी जा सकती है। पहाड़ी इलाकों में अक्सर ऐसे रास्ते देखें होंगे लेकिन आज पाकिस्तान की कुछ ऐसी खतरनाक सड़कों के बारे में बात करेंगे  जहां ड्राइविंग करना खतरे से खाली नहीं है। आइए जानिए ऐसी ही कुछ रास्तों के बारे में

फेयरी मेडोज रोड
PunjabKesari
पाकिस्तान के गिलगिट-बाल्टिस्तान प्रांत में लगभग 16.2 किमी लंबी सड़क है जहां पहाड़ से अक्सर चट्टानें और पत्थर गिरते रहते हैं जिस वजह से यहां कभी पक्की सड़क नहीं बन पाई। यहां बड़े वाहन जैसे बस या ट्रक नहीं निकल पाते। बारिश के दिनों में इस रास्ते को बंद कर दिया जाता है। पाकिस्तान में इस रास्ते को रोड ऑफ डेथ भी कहते हैं क्योंकि इस रास्ते पर काफी दुर्घटनाएं होती रहती हैं।

नाथिया गली रोड
PunjabKesari
पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रोविंस में स्थित यह सड़क 28.8 किमी लंबी है। इस सड़क से कई गांवों के रास्ते निकलते हैं जिस वजह से इस रास्ते में काफी भीड़ रहती है। यह एक हिल स्टेशन भी है जहां पर्यटक घूमने जाना बहुत पसंद करते हैं। बारिश के मौसम में इस सड़क पर कीचड़ जम जाता है और ठंड में यहां कोहरे की वजह से कुछ दिखाई नहीं देता। ऐसे मे इन मौसमों में इस रास्ते पर ड्राइविंग करना बहुत मुश्किल होता है।

काराकोरम हाईवे
PunjabKesari
काराकोरम पहाड़़ पर बना यह हाईवे जितना खूबसूरत है उतना ही खतरनाक भी है।
पाकिस्तान से लेकर चीन तक बना यह हाईवे 1300 किमी लंबा है और इसका निर्माण चीन देश की मदद से 1959 में शुरू हुआ जिसे बनने में लगभग 7 साल लगे। इस हाईवे को बनाते समय 1000 मजदूरों की जान गई, जिस वजह से इसे मौत का रास्ता भी कहा जाता है।

ग्राउंड ट्रक रोड
PunjabKesari
घार माउंटेन से गुजरने वाले करीब 2500 किमी लंबे इस हाईवे को सड़क-ए-आजम भी कहा जाता है। यह हाईवे पाकिस्तान को अफगानिस्तान के अलावा भारत देश के वाघा बार्डर से भी जोड़ता है। इस हाईवे पर काफी ट्रैफिक होता है और घुमावदार और उतार-चढ़ाव होने के कारण यहां गाड़ियां 30 किमी से ज्यादा स्पीड से नहीं चल पाती।

अली मलिक मार पास
PunjabKesari
यह हाईवे 4082 किमी लंबा है और यह काराकोेरम और हिमालय के कुछ हिस्सों से गुजरता है। इस हाईवे की अधिकतर सड़क कच्ची है जिसे वजह से यहां ड्राइविंग करना बहुत मुश्किल होता है। ठंड के मौसम में 2-3 महिने यह सड़क बर्फ से ढक जाती है जिस वजह से यह रास्ता बंद कर दिया जाता है।