You are hereNari

सुकून की नींद नहीं, बीमारियों का घर है ये गोलियां

सुकून की नींद नहीं, बीमारियों का घर है ये गोलियां
Views:- Saturday, August 12, 2017-4:40 PM

बिजी शेड्यूल, टैंशन और मानसिक तनाव के कारण नींद न आजकल आम समस्या हो गई है। अक्सर लोग नींद न आने पर स्लीपिंग पिल्स का इस्तेमाल करते है लेकिन शायद आपको ये नहीं पता कि सुकून की नींद लेने के लिए आप अपनी जान को खतरे में डाल रहें है। इन दवाइयों का लगातार सेवन करने से आपकी सेहत को नुकसान हो सकता है। नींद की गोली आपके दिमाग के साथ-साथ आपकी सेहत पर भी बुरा असर डालती है। अगर आप भी इन गोलियों को लेने के आदि हो चुके है, तो जरा संभल जाए।

 

1. गोलियों की आदत
अच्छी नींद लेने के लिए आप रोजाना इन गोलियों का इस्तेमाल करने लगते है। जिससे आपको एक ड्रग की तरह इन गोलियों की आदत पड़ जाती है। कुछ समय बाद आप इन गोलियों के बिना सो भी नहीं पाते और आपको बैचेनी सी महसूस होने लगती है। गोलियों को छोड़ना आपको नामुमकिन सा लगने लगता है। इस तरह आप इन गोलियों का और भी ज्यादा सेवन करने लगते है जिससे आपको इन सब समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

PunjabKesari

2. याद्दाश्त कमजोर
हाल ही में एक रिसर्च में इस बात का खुलासा किया गया है कि नींद की गोली लेने से याद्दाश्त कमजोर हो जाती हैं। इससे व्यक्ति के सोचने समझने की क्षमता बुरी तरह से प्रभावित हो जाती है और दिंमाग काफी धीमी गति से काम करने लगता है। अक्सर लोग इन गोलियों को लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरुरी नहीं समझते जिससे उन्हें इस तरह की बीमारीयों का सामना करना पड़ता है।

PunjabKesari

3. कैंसर
एक शोध के द्धारा इस बात को सिद्ध किया गया है कि इनके लगातार सेवन से आपको कैंसर जैसी बिमारी हो सकती है। एक दिन में इन गोलियों का अधिक सेवन करने से इस बिमारी का खतरा 35 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। इसके अलावा इसके अधिक सेवन से पाचन तंत्र खाराब होने पर आपको पेट से सम्बंधित कई तरह की प्रॉब्लम हो सकती है। इसलिए आप भी रोजाना गोलियों का सेवन करने से पहले एक बार जरुर सोच लें।

PunjabKesari

4. हार्ट अटैक
कैंसर के अलावा इन गोलियों के सेवन से हार्ट अटैक का खतरा भी रहता है। इसके लगातार सेबन से अटैक का खतरा 50 प्रतिशत तक होता है। अगर आप एक दिन में 2 से 3 गोलियों का सेवन करते हो तो अटैक का खतरा 20 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। डॉक्टर से सलाह लेने पर वो आपको इन गोलियों के बारे में सही जानकारी देगें। इसके साथ ही आपको ये भी पता चल जाएगा कि आपको कितनी मात्रा में इन गोलियों का सेवन करना चाहिए।

PunjabKesari

5. शोध के अनुसार
शोधकर्त्ताओं की मानें तो इन गोलियों के सेवन से शरीर में एसेटिलकोलाइन नामक केमिकल ब्लॉक हो जाता है। शरीर में इस केमिकल कमी होने पर आपको डिमेंशिया और डिप्रैंशन की प्रॉब्लम हो सकती है। ये पिल्स शरीर में धीरे-धीरे असर करती है। इनके कारण कई बार आपको सांस लेने में भी तकलीफ होने लगती है। इसके अलावा इससे होने वाले डिप्रैमशन की स्थिति में आप आत्महत्या तक करने के बारे में सोचने लगते है। इसलिए अगर आप भी इन पिल्स का इस्तेमाल कर रहें तो कम से कम इन गोलियों का सेवन करें।

PunjabKesari