Subscribe Now!
Twitter
You are hereNari

Air pollution : डाइट का रखें पूरा ध्यान, जानिए क्या खाना हैं सबसे जरूरी

Air pollution : डाइट का रखें पूरा ध्यान, जानिए क्या खाना हैं सबसे जरूरी
Views:- Monday, November 13, 2017-4:08 PM

Air Pollution: जिंदा रहने के लिए हमें सांसों की जरूरत होती है और सांसों को स्वच्छ हवा की लेकिन बढ़ते वायु प्रदूषण ने खुलकर सांस लेना मुश्किल कर दिया है। देश की राजधानी दिल्ली तो इस कहर की चपेट में हैं, जहां वायु प्रदूषण अब तक के सर्वोच्च स्तर पर है। तेजी से बिगड़ता मौसम और जहरीली हवा, दिल और अस्थमा संबंधी मरीजों, बच्चों और बुजुर्गों के लिए तो घातक है ही लेकिन स्वस्थ व्यक्ति भी इसमें ज्यादा देर तक सुरक्षित नहीं रह सकता। यह प्रदूषण फेफड़ों, रक्त, दिमाग,प्रजनन प्रणाली और इम्यून सिस्टम को प्रभावित करता है। अब सिर्फ दिल्ली ही प्रदूषण की चपेट में नहीं बल्कि अन्य कई राज्य भी इसके शिकार होते जा रहे हैं। अगर समय रहते इस ओर जागरूकता नहीं दिखाई गई तो जीवन खतरे में पड़ सकता है। इस समस्या के लिए सरकार के साथ- साथ हमें खुद भी कुछ ठोस कदम उठाने की सख्त जरूरत है, तभी हम एक स्वच्छ साफ-सुथरा जीवन जी सकते हैं। 

1. वायु प्रदूषण से बचाते हैं ये आहार
जब तक सरकार वायु शुद्धि के बारे में ठोस कदम उठाएगी तब तक हमें अपनी डाइट में ऐसे आहार शामिल करने की जरूरत है जो हमें इस प्रदूषण से बचाए रखेंगे क्योंकि प्राकृतिक एंटी-ऑक्सिडेंट आहार इस खतरनाक प्रदूषण से लड़ने में मददगार साबित होते हैं। विटामिन सी, ई, बीटा कैरोटिन व ओमेगा 3 फैट हमारे इम्युन सिस्टम को मजबूत करती हैं। 

-विटामिन सी 
विटामिन सी सबसे शक्तिशाली एंटी आक्सिडेंट हैं जो घुलकर हमारे पूरे शरीर में रहता हैं और सफाई करता है। एक युवा को रोजाना 40 मिलीग्राम विटामिन सी डाइट के रूप में लेने की जरूरत है। अगर आप इन विटामिन्स को सप्लीमेंट्स की बजाए आहारों में इनका सेवन करेंगे तो बेहतर है।

1.  सिट्रस फ्रूट्स यानि संतरा, चकोत्तरा, नींबू का सेवन करें। इसके अलावा आंवले और अमरूद में भी विटामिन सी भरपूर होता है। 
2. विटामिन सी लेने का बेस्ट तरीका रोज दो नींबू का रस पानी में मिलाकर पीएं।
3. सब्जियों में धनिया, चौलाई का साग, गोभी, मूली के पत्ते, मेथी, लेट्स पालक, शलगम का साग, अंकुरित दालें और ब्रोकली खाएं। हरी पत्तेदार सब्जियों में बीटा कैरोटिन भी प्रचूर मात्रा में होता है।  
4. रोजाना तुलसी, अदरक, मुलैटी, पुदीना व लेमन टी बनाकर पीएं। टमाटर सलाद के रूप में खाएं। 

-विटामिन ई
मानव टिशूज को क्षति से बचाने का काम विटामिन ई करता है। हमारे शरीर को  यह पौधों पर आधारित खाद्य तेल के जरिए मिलता है।  पीनट, बादाम व जैतून तेल इसका अच्छा स्त्रोत है इसलिए इसका सेवन करें।

1. अलसी, सूरजमूखी के बीज और नट्स खाएं। एक दिन में एक आउंस पर्याप्त है।
2. फिश में साल्मन, रो और ईल में विटामिन ई मौजूद होता है। इसके अलावा एवोकाडो, ब्रोकली, अंजीर को डाइट में शामिल करें। 


-ओमेगा-3 फैट
ओमेगा 3 फैटी एसिड शरीर को वायु प्रदूषण से होने वाले हानिकारक प्रभावों से बचाता है। नट्स और बीज जैसे अखरोट, चिया सीड्स आदि को दही में मिलाकर खाएं। इसके अलावा मेथी व सरसों के बीच, काले चने, राजमा और बाजरे में भी ओमेगा 3 होता है। 

-आयुर्वेदिक नुस्खे
- सर्दी जुकाम से बचे रहने के लिए गुड में प्याज का रस मिलाकर सेवन करें यह सूखे और गीले दोनों तरह के कफ में कारगर है। 

- डाइट के साथ एक्सरसाइज और योग भी करें। इससे आप हैल्दी एंड फिट रहेंगे।
 
2. इन बातों का भी रखें ध्यान
- अगर आप सुबह सैर, जोगिंग साइकलिंग, योग या जिम के लिए जाते हैं तो नवम्बर से जनवरी तक सुबह की बजाए शाम को जाएं क्योकिं सुबह के समय प्रदूषण की समस्या अधिक है।

- इन 3 महीनों में अगरबत्ती, धूप का इस्तेमाल ना करें।

-  कूड़ा कर्कट को जलाएं नहीं। सफाई के लिए झाड़ू की बजाए गीले पौंछे का इस्तेमाल करें ताकि धूल मिट्टी उड़ेगी  नहीं।

- प्रदूषण से बचने के लिए मास्क का इस्तेमाल करें।

- सड़क पर पानी का हल्का छिड़काव करे ताकि धूल-मिट्टी ना उड़े।

- घर में वायु शोधक का इस्तेमाल करें, खासकर बच्चों, गर्भवती महिला व  बुजुर्गों के कमरे में।