Twitter
You are hereLife Styleभारत के हर कोने में दाल बनाने का है अलग तरीका
भारत के हर कोने में दाल बनाने का है अलग तरीका
Views:- Friday, May 12, 2017-11:40 AM

पंजाब केसरी (ट्रैवलिंग) : कई लोगों को घूमने और खाने-पीने का काफी शौंक होता है। वे अक्सर छुट्टियां मनाने के लिए अलग-अलग जगहों पर जाते हैं। ऐसे में वे सिर्फ वहां का सुंदर नजारा ही नहीं लेते बल्कि स्वादिष्ट खाने का भी आनंद लेते हैं। खाने की बात करें तो किसी भी जगह चले जाएं वहां दाल तो जरूर मिलेगी और हर जगह इसे बनाने का तरीका भी अलग होता है। आइए जानिए किस राज्य की दाल में कैसे तड़का लगाया जाता है।


उत्तर भारत
PunjabKesari
दाल का स्वाद बढ़ाने में कई तरह के मसालों से तड़का लगाया जाता है। हर शहर में इसके लिए अलग-अलग मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। उत्तर भारत में दाल को तड़का लगाने के लिए घी, राई, हींग, हरी मिर्च और मेथी के दानों का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा उत्तर भारत के कश्मीर शहर में लौंग, इलायची, काली मिर्च, दालचीनी और तेजपत्ते का इस्तेमाल करके तड़का लगाया जाता है।

पूर्वोत्तरी
PunjabKesari
भारत के पूर्वोत्तर दिशा के बंगाल, बिहार और असम में छौंक के लिए कलौंजी, पंच फोरन, तेजपत्ता, सौंफ, मेथी और राई का इस्तेमाल किया जाता है। इस सब तेज मसालों के साथ बारीक कटे प्याज से दाल का स्वाद और भी बढ़ जाता है।

दक्षिण भारत
PunjabKesari
दक्षिण भारत यानि साउथ इंडियन शहरों में तड़के के लिए नारियल तेल का इस्तेमाल किया जाता है। यहां ज्यादातर सांभर या मिक्स दाल ही बनाई जाती है जिसके लिए राई, उड़द दाल, चने की दाल और करी पत्ते से छौंक लगाया जाता है।

पश्चिमी राज्य
PunjabKesari
पश्चिम दिशा के गुजरात और राजस्थान शहरों में राई, जीरा, हींग, लाल मिर्च और टमाटर से दाल को काफी मसालेदार तड़का लगता है। इन जगहों पर दाल हो या सब्जी हर चीज में थोड़ी-सी चीनी भी मिलाई जाती है।