You are hereparenting

'मेरे पीरियड्स लक्जरी तो नहीं फिर क्यों भरूं मैं लगान'

'मेरे पीरियड्स लक्जरी तो नहीं फिर क्यों भरूं मैं लगान'
Views:- Thursday, April 20, 2017-8:21 PM

पंजाब केसरी(पेरेंटिग): औरतों को हर महीने पीरियड की समस्या से गुजरना पड़ता है। पीरियड के दिनों में महिलाएं सेनेटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं लेकिन कुछ महिलाएं एेसी भी होती हैं जिनके पास इन्हें खरीदने के लिए पैसे नहीं होते। देश में बाकि चीजों की तरह हर साल सेनेटरी नैपकिन पर भी सरकार की तरफ से टैक्स लगा दिया जाता है। औरतों की इसी परेशानी को लेकर ट्विटर पर ‘शी सेज़’ नामक ग्रुप ने ट्विटर पर #LahuKaLagaan नाम का एक कैंपेन चलाया है, जिसमें वित्त मंत्री अरुण जेटली से अपील की जा रही है कि सेनेटरी नैपकिन्स पर लगे टैक्स को हटा दिया जाए।

इस मुहिम को लेकर बहुत सारी लड़कियां भी आगे आ रही हैं और इस कैंपेन को स्पोर्ट कर रही हैं। सेनेटरी नैपकिन्स का इस्तेमाल कोई आम बात नहीं है। खुद को इंफैक्शन से बचाने के लिए लड़कियों को हर महीने इसका इस्तेमाल करना पड़ता है इसलिए सरकार को इनकी कीमतों पर जरूर सोच विचार करना चाहिए। 

हमारे देश में निम्न वर्ग की महिलाएं इन्हें खरीद नहीं पाती  क्योंकि उनके पास इसके लिए पैसे नहीं होते। इस मुहिम में मशहूर एक्टर मल्लिका दुआ और आर. जे. आभा भी खुलकर अपने विचार पेश कर रही हैं। सरकार को औरतों की इस जरूरत को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।